सीबीआईसी का फुल फॉर्म हिंदी में | CBIC Ka Full Form in Hindi

CBIC-Ka-Full-Form-Hindi-Me-Kya-Hai

CBIC को भारत में अप्रत्यक्ष करों के संग्रहण की जिम्मेदारी सौंपी गई है। CBDT (केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड) वैधानिक निकाय है जो भारत में प्रत्यक्ष कर एकत्र करता है। इसी तरह सीबीआईसी भारत में अप्रत्यक्ष कर एकत्र करता है। CBIC का फुल फॉर्म क्या है? सीबीआईसी का फुल फॉर्म सेंट्रल बोर्ड ऑफ इनडायरेक्ट टैक्सेज एंड कस्टम्स (Central Board … Read more

एमएसपी का फुल फॉर्म हिंदी में | MSP Ka Full Form in Hindi

MSP-Ka-Full-Form-Kya-Hai

आपने MSP के बारे में तो सुना ही होगा. लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि MSP क्या होता है? MSP का फुल फॉर्म हिंदी में क्या है? अगर आप यहां नहीं जानते हैं तो इस पोस्ट में मैं आपको एमएसपी के बारे में डिटेल में बताऊंगा। MSP का फुल फॉर्म क्या है? इस लेख में हम … Read more

सेबी का फुल फॉर्म क्या है? | SEBI Ka Full Form Kya Hai?

सेबी का फुल फॉर्म

सेबी का फुल फॉर्म भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड है। यह एक वैधानिक निकाय है जो भारत के पूंजी बाजार को नियंत्रित करता है। 1988 में स्थापित सेबी को 1992 में वैधानिक अधिकार दिए गए थे। तब से यह भारत के पूंजी बाजार के लिए एक प्रहरी के रूप में काम कर रहा है। मुंबई … Read more

नाबार्ड का फुल फॉर्म क्या है ? | NABARD Ka Full Form Kya Hai?

नाबार्ड का फुल फॉर्म

नाबार्ड का फुल फॉर्म नेशनल बैंक फॉर एग्रीकल्चर एंड रूरल डेवलपमेंट है। यह सर्वोच्च बैंक है जो ग्रामीण क्षेत्रों में कृषि ऋण और अन्य संबद्ध गतिविधियों को नियंत्रित करता है। नाबार्ड वित्त मंत्रालय के तहत काम करता है और वर्तमान में इसका नेतृत्व जीआर चिंताला कर रहे हैं। मुख्यालय मुंबई में स्थित है। 1982 में … Read more

फेमा का फुल फॉर्म क्या है? | FEMA Ka Full Form Kya Hai?

फेमा का फुल फॉर्म

फेमा का फुल फॉर्म: फेमा (विदेशी मुद्रा प्रबंधन अधिनियम – Foreign Exchange Management Act) 1999 में अस्तित्व में आया। यह एक विदेशी मुद्रा विनियमन और प्रबंधन अधिनियम है जिसने फेरा (विदेशी मुद्रा विनियमन अधिनियम – Foreign Exchange Regulation Act) को बदल दिया है। फेमा (Enforcement Directorate) का प्रधान कार्यालय नई दिल्ली में स्थित है। इसका … Read more

WPI और CPI के बीच अंतर | Difference between WPI and CPI

WPI vs CPI

थोक मूल्य सूचकांक (WPI) और उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (CPI) मुद्रास्फीति के स्तर की गणना के लिए दो तरीके हैं। ये दोनों गणना के लिए विभिन्न तकनीकों का उपयोग करते हैं। एक तरफ थोक स्तर पर थोक मूल्य सूचकांक केवल माल का उपयोग करता है जबकि सीपीआई उपभोक्ता स्तर पर वस्तुओं और सेवाओं दोनों के लिए … Read more

मुद्रास्फीति से जुड़ी महत्वपूर्ण शर्तें | Important Terms Associated with Inflation

मुद्रास्फीति

मुद्रास्फीति (Inflation) समय की अवधि में सामान्य वस्तुओं की कीमत में वृद्धि है। हमने पहले ही अपनी पिछली पोस्ट में बात की थी। मुद्रास्फीति की गणना विभिन्न तरीकों का उपयोग करके की जाती है जैसे। सीपीआई (उपभोक्ता मूल्य सूचकांक), डब्ल्यूपीआई (थोक मूल्य सूचकांक), निर्माता मूल्य सूचकांक (पीपीआई), जीडीपी डिफ्लेटर इत्यादि। यहां हम मुद्रास्फीति से जुड़ी … Read more

सीपीआई फुल फॉर्म हिंदी में | CPI Full Form in Hindi

उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई)

उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) (Consumer Price Index) मुद्रास्फीति की गणना के लिए एक विधि है। सीपीआई को पहले कॉस्ट ऑफ लिविंग इंडेक्स के रूप में जाना जाता था। यह मुद्रास्फीति की गणना के लिए सबसे व्यापक रूप से इस्तेमाल की जाने वाली विधि है। यह वस्तुओं और सेवाओं की एक टोकरी के लिए परिवारों द्वारा … Read more

थोक मूल्य सूचकांक (WPI) क्या है? थोक मूल्य सूचकांक मुद्रास्फीति की गणना

थोक मूल्य सूचकांक

समय के साथ माल और सेवाओं की कीमतों में मुद्रास्फीति बढ़ रही है। इसकी गणना विभिन्न तरीकों से की जा सकती है। मुद्रास्फीति की गणना के लोकप्रिय तरीकों में से एक थोक मूल्य सूचकांक (Wholesale Price Index) या केवल WPI है। लेकिन इस तरीके की सबसे बड़ी कमी यह है कि इसमें सेवाओं को शामिल … Read more

मुद्रास्फीति क्या है? मुद्रास्फीति के पीछे कारण, मुद्रास्फीति के प्रकार के बारे में जानें

मुद्रास्फीति

मुद्रास्फीति (Inflation) समय की अवधि में वस्तुओं और सेवाओं के सामान्य मूल्य स्तर में वृद्धि है। दूसरे शब्दों में, पैसे की क्रय शक्ति गिर जाती है। बहुत अधिक धन बहुत कम वस्तुओं का पीछा कर रहा है। इसलिए, कीमत बढ़ जाती है। वैकल्पिक रूप से यह कहा जा सकता है कि यह उत्पादन को प्रोत्साहित … Read more